Rashifal Rashifal
Raj Yog Raj Yog
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali Kundali
Kundali Matching Matching
Tarot Reading Tarot
Personalized Predictions Predictions
Today Choghadiya Choghadiya
Anushthan Anushthan
Rahu Kaal Rahu Kaal

चिकित्सा ज्योतिष - Medical Astrology in Hindi

चिकित्सा ज्योतिष - Medical Astrology in Hindi

Updated Date : Monday, 15 Mar, 2021 13:22 PM

चिकित्सा ज्योतिष (Medical Astrology), ज्योतिष की एक उपभाग है जो आपकी कुंडली में ग्रहों और सितारों के प्रभाव के आधार पर आपके स्वास्थ्य में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। इस प्राचीन ज्योतिष के अनुसार, प्रत्येक ग्रह और राशि एक विशिष्ट बीमारी से जुड़ी है। जन्म कुंडली में विभिन्न राशियों और ज्योतिष घरों में ग्रहों की स्थिति बीमारी के रूप को दर्शाती है जो किसी व्यक्ति को उसके जीवनकाल में हो सकती है।

पूजा से होगा स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान। 

इस प्रकार, मेडिकल ज्योतिष को समझने से, व्यक्ति आसानी से अपने शरीर में किसी बीमारी की वास्तविक उपस्थिति से पहले उसे जान सकते हैं। साथ ही, चिकित्सा ज्योतिष या मेडिकल एस्ट्रोलॉजी से बीमारियों की अवधि जानने और किसी भी बीमारी की गंभीरता समझने में मदद मिलती हैं।

हालांकि, राशि चक्र और ग्रहों से जुड़े सभी रोग आपको नुकसान नहीं पहुंचा सकते हैं लेकिन आप अपने जीवन में उनमें से कुछ का अनुभव कर सकते हैं।

राशि और शरीर के अंग

चिकित्सा ज्योतिष में, किसी व्यक्ति या कालपुरुष के शरीर को इस तरह से विभाजित किया गया है कि प्रत्येक राशि विशेष भागों को नियंत्रित करती है।

ज्योतिष से पूछे अपने स्वास्थ्य के बारे मे।

आपकी किस्मत में है राजयोग

यहाँ सभी बारह राशियों और शरीर के प्रत्येक अंग से जुड़ी प्रत्येक राशि के बारे में बताया गया है।

राशि - चक्र चिन्ह शरीर के अंग
मेष सिर, मस्तिष्क, चेहरा
वृषभ गला, गर्दन और होंठ
मिथुन फेफड़े, हाथ, बाजू
कर्क

पेट, स्तन, छाती, पसलियां

सिंह दिल, रीढ़, कलाई
कन्या आंतें, रीढ़ की हड्डी का निचला भाग, उंगलियां, तिल्ली
तुला गुर्दे, त्वचा, कमर का हिस्सा
वृश्चिक मूत्राशय, गुदा, नाक, अपेंडिक्स
धनु कूल्हें, जांघें, नसें, धमनियां
मकर घुटने, जोड़, दांत, त्वचा
कुंभ पैर, टखने, रक्त का परिसंचरण
मीन पैर, पैर की उंगलियां, लसीका प्रणाली

ग्रह और शरीर के अंग

चिकित्सा ज्योतिषियों के अनुसार, ज्योतिष के नौ ग्रह शरीर के विभिन्न अंगों से जुड़े हैं। चिकित्सा ज्योतिष के अनुसार ग्रहों और संबंधित शरीर के अंगों के बारे में जानने के लिए नीचे दी गई तालिका देखें। साथ ही ज्योतिष चार्ट में ग्रहों से जुड़ी बीमारियों के बारे में जानें।

ग्रह शरीर के अंग
बुध यह वात पर शासन करता है। पित्त और कफ। बुध मस्तिष्क, श्वसन प्रणाली और तंत्रिकाओं को नियंत्रित करता है। इसकी कमजोर स्थिति गैस्ट्रिक जूस, हाथ, भुजा, गर्दन के निचले हिस्से, नपुंसकता, सिर चकराना आदि से संबंधित विकारों का संकेत देती है।
मंगल यह पित्त को नियंत्रित करता है। मंगल धमनियों, प्रजनन प्रणाली, दांत, नाखून, बाल, आंत और नाक को कवर करता है। कमजोर शुक्र जलने, फ्रैक्चर, घाव, त्वचा पर चकत्ते, ट्यूमर, टाइफाइड आदि का कारण बनता है।
शुक्र यह वात और कफ को नियंत्रित करता है। यह पाचन तंत्र, किडनी, प्रजनन प्रणाली, यौन अंग, त्वचा, गले आदि को नियंत्रित करता है। कमजोर शुक्र मूत्र मार्ग, एनीमिया, मूत्राशय, मोतियाबिंद, नपुंसकता आदि से संबंधित रोगों और व्याधियों का कारण बनता है।
शनि यह वात (गैस), त्वचा, नसों, हड्डियों और कंकाल को नियंत्रित करता है। शनि के प्रभाव से शारीरिक कमजोरी, पेट दर्द, अंधापन, बहरापन आदि होता है।
बृहस्पति यह लीवर, गुर्दे, मस्तिष्क, तिल्ली आदि का कारक है। कमजोर बृहस्पति कान, मधुमेह, अग्न्याशय, याददाशत आदि से संबंधित बीमारियों का कारण बनता है।
सूर्य सूर्य हृदय, रीढ़ की हड्डी, पाचन तंत्र, हड्डी संरचना, रक्त, पित्ताशय को नियंत्रित करता है। इससे व्यक्ति तेज बुखार, मानसिक रोग, जोड़ों के विकार, हृदय की परेशानी, गंजापन आदि से पीड़ित हो सकते हैं।
चन्द्रमा यह अंडाशय, भावनाओं, शरीरिक तरल पदार्थ, स्तन, टॉन्सिल, लसीका, ग्रंथियों आदि को नियंत्रित करता है। चंद्रमा की कमजोर स्थिति मुंह, तिल्ली, गर्भाशय, तंत्रिका संबंधी विकार, सुस्ती आदि से संबंधित बीमारियों का कारण बनती है।
राहु पैर, गर्दन, फेफड़े, श्वास आदि यह वात और कफ को नियंत्रित करता है। प्रभावित राहु के कारण मोतियाबिंद, अल्सर, सांस लेने की समस्या, हकलाना, तिल्ली की समस्या आदि हो जाते हैं।
केतु यह पेट और पंजों को नियंत्रित करता है। कमजोर और दुर्बल केतु कान की समस्याओं, आंखों के रोग, पेट दर्द, शारीरिक कमजोरी व अन्य परेशानियों का कारण बनता है।

12 ज्योतिषीय घर और रोग

आपकी कुंडली बारह ज्योतिष घरों में विभाजित है। प्रत्येक ज्योतिषी घर जीवन के विशिष्ट क्षेत्रों को नियंत्रित करता है जो इन घरों में ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति और चाल से प्रभावित होते हैं। चिकित्सा ज्योतिष के अनुसार, ये ज्योतिष घर शरीर के कुछ हिस्सों का प्रतिनिधित्व करते हैं और जीवन भर किसी व्यक्ति की भलाई के बारे में बहुत कुछ बताते हैं।

पहला घर

सिर, दिमाग, बाल और त्वचा पहले घर में आते हैं। यह उच्च घर या लग्न है जो किसी व्यक्ति के सामान्य स्वास्थ्य और शारीरिक क्षमता को नियंत्रित करता है। यह शारीरिक कद, उत्साह और जोश का प्रतिनिधित्व करता है।

दूसरा घर

दूसरा घर आपके चेहरे, दाईं आंख, दांत, नाक, आवाज, जीभ, मस्तिष्क की स्थिति, नाखूनों का प्रतिनिधित्व करता है। यदि आपका दूसरा घर कमजोर है, तो आपको तेज बुखार, पेट की समस्या, त्वचा रोग, हड्डी का फ्रैक्चर, कुष्ठ रोग, हृदय रोग, आंतरिक बुखार और मस्तिष्क संबंधी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

तीसरा घर

गर्दन, गला, हाथ, गले की हड्डियां, श्वास, शरीर का बढ़ना तीसरे घर में शामिल है। किसी जातक के कमजोर तीसरे घर के कारण कट, घाव, आंखों में दर्द, खुजली, ऊर्जा की कमी, विषाक्तता, सिर से संबंधित समस्याएं, रक्तचाप, हड्डी में फ्रैक्चर, महिला अंग विकार, ट्यूमर, मासिक धर्म संबंधी विकार, बवासीर, अल्सर, पेचिश, गुदा संबंधी समस्याएं, चिकनपॉक्स, कैंसर आदि हो सकते हैं।

चौथा घर

ज्योतिष का चौथा घर छाती, फेफड़े, हृदय, स्तन और रक्तचाप को दर्शाता है। यह घर अक्सर महिला में हार्मोन से संबंधित बीमारियों से जुड़ा होता है। कुंडली में कमजोर चौथा घर शरीर के अंगों के कमजोर होने का संकेत देता है, जिससे व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है।

पांचवा घर

ज्योतिष का पांचवां घर सोच, आंतों, शुक्राणुओं, हृदय, पित्ताशय, पेट का ऊपरी हिस्सा, जीवन शक्ति, बुद्धि, शुक्राणु और गर्भ का प्रतिनिधित्व करता है। इस घर को बीमारी के इलाज या बीमारी की अनुपस्थिति का घर कहा जाता है। यह कुंडली का मजबूत और लाभकारी पांचवां घर है।

छठा घर

कुंडली के छठे घर को ‘बीमारी का घर’ कहा जाता है। इसमें आपके शरीर के पाचन तंत्र, गर्भाशय, गुर्दे और गुदा शामिल हैं। छठे घर में स्थित ग्रहों का संयोजन बीमारियों के उभरने का संकेत देता है। यदि जातक की कुंडली में छठा घर कमजोर है, तो इस बात की प्रबल संभावना है कि व्यक्ति खराब स्वास्थ्य का अनुभव करेगा और आसानी से बीमार पड़ जाएगा।

सातवां घर

कुंडली के सातवें घर में गर्भाशय, अंडाशय और प्रोस्टेट ग्रंथि शामिल हैं। यह अपच, गलगंड, अल्सर, मूत्रमार्ग संबंधी रोगों, हर्निया, बुखार, ड्रॉप्सी, ग्रंथि संबंधी बीमारियों, गठिया, गाउटर, गोनोरिया, सामान्य दुर्बलता, गले की समस्याऐं, यौन अक्षमताओं आदि को भी इंगित करता है। जातक का कमजोर सप्तम घर चेहरे से संबंधित बीमारियों, डायबिटीज और वीनर रोगों का भी कारण बनता है।

आठवां घर

आठवां घर अंग परिवर्तन, दुर्घटना, सेक्स, बाह्य जननांग और लंबी बीमारीयों को इंगित करता है। यह किसी व्यक्ति के दुर्भाग्य, मानसिक चिंता और सर्जरी से संबंधित मामलों में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। इस घर को समझकर, किसी व्यक्ति की लंबी उम्र और जीवन काल के बारे में जाना जा सकता है।

नौवां घर

बर्थ चार्ट का नौवां घर जोड़ों, हड्डियों, धमनी प्रणाली, कूल्हों, जांघों, घुटनों और उनसे जुड़ी बीमारियों का दर्शाता है। इस घर में ग्रहों की स्थिति त्वचा और दांतों से संबंधित बीमारी को निर्धारित करती है। इसमें अंधापन, मानसिक चिंताएं, ट्यूमर, मिरगी, लकवा, गंजापन, पेट दर्द, अंगों की क्षति और शरीर की कमजोरी शामिल हैं।

दसवां घर

दसवें घर में अंधापन, पेट दर्द, जांघ, जोड़ों का दर्द, हड्डी में फ्रैक्चर, घाव, गंजापन आदि रोग शामिल हैं। यह नौवें घर के समान अंगों पर नियंत्रण रखता है।

ग्यारहवां घर

ग्यारहवें घर में पैरों, पिंडलियों, रक्त परिसंचरण, बाएं कान, बाएं हाथ और टखनों पर नियंत्रण शामिल है। इस घर को आमतौर पर किसी व्यक्ति के जीवन में पुरानी बीमारियों के बारे में जानने के लिए माना जाता है। कोई व्यक्ति वर्तमान में किस बीमारी का सामना कर है यह जानने के लिए ज्योतिषी ग्यारहवें घर का विश्लेषण करते हैं।

बारहवां घर

कुंडली का अंतिम और बारहवां घर मन के संतुलन को दर्शाता है। इसमें बाईं आंख, मृत्यु, शारीरिक सुख, दुःख, विकलांगता, लसीका प्रणाली, पैर और पैर की उंगलियां आदि शामिल हैं। यह घर चिकित्सा ज्योतिष के अनुसार अस्पताल में भर्ती होने और बीमारियों का इलाज करने के लिए महत्वपूर्ण है।

सभी घरों में, तीन मुख्य घर हैं जो लोगों को शारीरिक बीमारियों से परेशान करते हैं। वे हैं- जन्म कुंडली का 6 वां, 8 वां और 12 वां घर। छठे घर के कमजोर होने से छोटी अवधि की बीमारी होती है जबकि 8 वें घर में लंबी अवधि की बीमारी और घातक बीमारियां होती हैं।


Leave a Comment

hindi
english