monthly_panchang

mata mahagauri aarti vrat katha puja vidhi

panchang

MATA MAHAGAURI AARTI VRAT KATHA PUJA VIDHI

Maa Mahagauri Aarti in Hindi

जय महागौरी जगत की माया ।
जया उमा भवानी जय महामाया ।।

हरिद्वार कनखल के पासा ।

महागौरी तेरा वहां निवासा ।।

चंद्रकली ओर ममता अंबे ।

जय शक्ति जय जय मां जगदंबे ।।

भीमा देवी विमला माता ।

कौशिकी देवी जग विख्याता ।।

हिमाचल के घर गौरी रूप तेरा ।

महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा ।।

सती ‘सत’ हवन कुंड में था जलाया ।

उसी धुएं ने रूप काली बनाया ।।

बना धर्म सिंह जो सवारी में आया ।

तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया ।। 

तभी मां ने महागौरी नाम पाया ।

शरण आनेवाले का संकट मिटाया ।।

शनिवार को तेरी पूजा जो करता ।

मां बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता ।।

भक्त बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो ।

महागौरी मां तेरी हरदम ही जय हो ।।

Also Check : Yearly Hindu Calendar

Maa Mahagauri Mantra in Hindi

श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः।

महागौरी शुभं दघान्महादेवप्रमोददा॥

Want to Know the date of : Dussehra 2017 and Diwali 2017

Maa Mahagauri Vrat Katha in Hindi

श्री दुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी हैं। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है, इसलिए ये महागौरी कहलाती हैं। नवरात्रि के अष्टम दिन इनका पूजन किया जाता है। इनकी उपासना से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। माँ महागौरीकी आराधना से किसी प्रकार के रूप और मनोवांछित फल प्राप्त किया जा सकता है। महागौरी की चार भुजाएं हैं उनकी दायीं भुजा अभय मुद्रा में हैं और नीचे वाली भुजा में त्रिशूल शोभता है। बायीं भुजा में डमरू डम डम बज रही है और नीचे वाली भुजा से देवी गौरी भक्तों की प्रार्थना सुनकर वरदान देती हैं।

देवी पार्वती रूप में इन्होंने भगवान शिव को पति-रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की थी, एक बार भगवान भोलेनाथ जी, पार्वती जी को देखकर कुछ कह देते हैं। जिससे देवी के मन आहत होता है और पार्वती जी तपस्या में लीन हो जाती हैं। इस प्रकार वषों तक कठोर तपस्या करने पर जब पार्वती नहीं आती तो पार्वती को खोजते हुए भगवान शिव उनके पास पहुँचते हैं वहां पहुंचे तो वहां पार्वती को देखकर आश्चर्य चकित रह जाते हैं। पार्वती जी का रंग अत्यंत ओजपूर्ण होता है, उनकी छटा चांदनी के सामन श्वेत और कुन्द के फूल के समान धवल दिखाई पड़ती है, उनके वस्त्र और आभूषण से प्रसन्न होकर देवी उमा को गौरवर्ण का वरदान देते हैं।

एक कथा अनुसार भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए देवी ने कठोर तपस्या की थी जिससे इनका शरीर काला पड़ जाता है। देवी की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान इन्हें स्वीकार करते हैं और शिव जी इनके शरीर को गंगा-जल से धोते हैं तब देवी विद्युत के समान अत्यंत कांतिमान गौर वर्ण की हो जाती हैं तथा तभी से इनका नाम गौरी पड़ा। महागौरी जी से संबंधित एक अन्य कथा भी प्रचलित है इसके जिसके अनुसार, एक सिंह काफी भूखा था, वह भोजन की तलाश में वहां पहुंचा जहां देवी उमा तपस्या कर रही होती हैं। देवी को देखकर सिंह की भूख बढ़ गयी परंतु वह  देवी के तपस्या से उठने का इंतजार करते हुए वहीं बैठ गया इस इंतजार में वह काफी कमज़ोर हो । देवी जब तप से उठी तो सिंह की दशा देखकर उन्हें उस पर बहुत दया आती है, और माँ उसे अपना सवारी बना लेती हैं क्योंकि एक प्रकार से उसने भी तपस्या की थी। इसलिए देवी गौरी का वाहन बैल और सिंह दोनों ही है।

Also See : Today's Choghadiya

शुभ रंग : गुलाबी

Devi Mahagauri Puja Vidhi in Hindi

सबसे पहले गंगा जल से शुद्धिकरण करके देवी मां महागौरी की प्रतिमा या तस्वीर चौकी पर स्थापित करें। इसके बाद चौकी पर चांदी, तांबे या मिट्टी के घड़े में जल भरकर उस पर नारियल रखकर कलश स्थापना करें। उसी चौकी पर श्रीगणेश, वरुण, नवग्रह, षोडश मातृका (16 देवी), सप्त घृत मातृका(सात सिंदूर की बिंदी लगाएं) की स्थापना भी करें।

इसके बाद व्रत, पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा माता महागौरी सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इसमें आवाहन, आसन, पाद्य, अध्र्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्र पुष्पांजलि आदि करें। इस दिन माता दुर्गा को नारियल का भोग लगाएं और नारियल का दान भी करें। साथ ही इस दिन माता को चुनरी चढ़ाने से भी मां खुश होती हैं।

मां सौंदर्य प्रदान करने वाली हैं। हाथ में श्वेत पुष्प लेकर मां का ध्यान करें।

अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है। कन्याओं की संख्या 9 होनी चाहिए नहीं तो 2 कन्याओं की पूजा करें। कन्याओं की आयु 2 साल से ऊपर और 10 साल से अधिक न हो। भोजन कराने के बाद कन्याओं को दक्षिणा देनी चाहिए।

Also Check : Your Sun Sign or Moon Sign

Maa Mahagauri

Origin - According to the Hindu mythologies, at the age of sixteen, Maa Shailputri was extraordinarily beautiful, charming as was blessed with a very fair complexion.

Goddess Mahagauri is the name given to her due to her extremely fair complexion. Maa Mahagauri is believed to be the ruler of planet Rahu.

Goddess Mahagauri is worshipped on the eighth day of Navratri and is the eight facet of Goddess Durga. She possesses an unfailing power which is believed to be instantly fruitful.

It is believed that if one worships her, all their past, present and future sins are wiped off and the devotee get purified in all forms.

MahaGauri is said to be peaceful, intelligent and calm. She has a dark complexion due to her long austerities in the rich forests of the Himalayas. She rides a bull, dressed in a white or green saree. She has four arms.

She holds a trident in the right arm and the lower right arm in the gesture of blessing. She holds a pellet drum in the lower left arm and another arm is in the gesture of allaying fear.

Also See : Free Online Kundali Matching For Marriage

MANTRA in English

ॐ देवी महागौर्यै नमः॥

Om Devi Mahagauri yai Namaha॥


Pujan Vidhi in English

On the eight day of Navratras, the idol or image of Maa Mahagauri should be set on a wooden stand after purification by Ganga jal. Then after fill water in silver, copper or earthen pot and do kalashsthapna by placing a coconut on the top of the pot. On the same stand also do the sthapana of Shri Ganesh, Varun, Navgrah, shodash matruka (16devis), sapt grut matruka (seven kinds of sindoor)

Then after take sankalp for vrat, poojan and do shodhopchar puja of all sthapit gods alongwith Maa Mahagauri. The shodhopchar puja includes avahan, aasan, padya, ardhya, aachman, snan, cloths, saubhagya sootr, sandal, roli, haldi, sindoor, durva, bilvpatr, ornaments, flower garland, perfume, dhoop-deep, naivadya, fruits, betel leaf, dakshina, aarti, pradikshna, mantra pushpanjali etc. Maa Durga should be offered Coconut and it should be given as alms. Maa Mahagauri blesses beauty. Do dhyan on Maa while keeping white flowers in palm.

Kanya poojan or worshipping of girls aged between 2 to 10 years is considered very auspicious on this day. The right number of girls for worshipping is 9 but worshipping 2 girls will solve the purpose. Give gifts to the kanyas after they had meals.

Share

share

hindi
english
flower