Rashifal Rashifal
Raj Yog Raj Yog
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali Kundali
Kundali Matching Matching
Tarot Reading Tarot
Personalized Predictions Predictions
Today Choghadiya Choghadiya
Anushthan Anushthan
Rahu Kaal Rahu Kaal

अहोई अष्टमी क्यों मनाई जाती है? Ahoi Ashtami Celebration in Hindi

अहोई अष्टमी क्यों मनाई जाती है?  Ahoi Ashtami Celebration in Hindi

Updated Date : Tuesday, 30 Mar, 2021 09:44 AM

अहोई अष्टमी क्यों मनाई जाती है?

क्या आप जानते हैं कि माताओं को अहोई अष्टमी व्रत क्यों करना चाहिए?

अहोई अष्टमी का व्रत अपनी संतान के प्रति एक माँ के अनंत प्रेम को दर्शाता है। यह व्रत ज्यादातर उत्तर भारत में प्रचलित है। यह दीवाली के त्योहार से आठ दिन पहले और करवा चौथ के व्रत के चार दिन बाद आता है। चूंकि यह चंद्र महीने के आठवें दिन पड़ता है, इसलिए इसे अहोई अष्टमी के रूप में मनाया जाता है।

इस पवित्र दिन से जुड़ी एक उचित उपवास प्रक्रिया, व्रत कथा और पूजा विधान है। आइए एक-एक करके सभी रिवाजों के बारे में जानें और मां-बेटे के इस प्रेम बंधन को अत्यधिक भक्ति के साथ मनाऐं।

अहोई अष्टमी व्रत तिथि और मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार सबसे अधिक त्योहार मनाए जाने वाले महीने अक्टूबर और नवंबर हैं। यह करवाचौथ से शुरू होता है, इसके बाद अहोई अष्टमी और फिर पांच दिवसीय पर्व दीवाली। हम इन महीनों में बहुत सारे त्योहार मनाते हैं।

इस वर्ष अहोई अष्टमी व्रत 9 नवंबर को मनाया जाऐगा। अष्टमी मुहूर्त एक घंटे और सत्रह मिनट का होगा।

अष्टमी प्रारंभ - 12:45 से (28 अक्तूबर 2021)

अष्टमी समाप्त - 14:04 तक (29 अक्तूबर 2021) 

अहोई अष्टमी कथा

हमारी संस्कृति हर त्योहार और इसके उत्सव के साथ ज्ञान का प्रसार करती है। व्रत से जुड़ी कोई न कोई कहानी या कोई संदेश होता है। अहोई व्रत की भी एक रोमांचक कहानी है।

एक समय की बात है, एक महिला एक छोटे से गाँव में रहती थी, और उसके सात बेटे थे। कार्तिक महीने के एक खूबसूरत दिन, वह घर के कुछ काम के लिए मिट्टी खोद रही थी, और गलती से, उसकी कुल्हाड़ी उसके हाथ से फिसल गई। और दुर्भाग्य से, वह शेर की मांद में गिर गई, और कुल्हाड़ी लगने से सोए हुए शावक(शेर का बच्चा) की उसी क्षण मृत्यु हो गई।

परिणामस्वरूप उसके सात बेटे एक के बाद एक मरने लगे और उसने साल के अंत तक अपने सभी बेटों को खो दिया। उसे इसका बेहद दुख हुआ और वह एकदम टूट गई। जब उसे याद आया कि उसने गलती से शावक को मार दिया था जिसकी वजह से उसके सातों बेटों की मृत्यु हो गई। अतः किसी ने उसे अहोई भगवती माता की पूजा-प्रार्थना करने की सलाह दी।

कथा के अनुसार, जब उस बूढ़ी औरत ने एक शावक का चेहरा बनाकर अहोई माता की पूजा की, पूरे दिन उपवास रखा और सम्पूर्ण भावना से प्रार्थना की, तब उसके सभी सात बेटे उसे वापस प्राप्त हुए।

अहोई अष्टमी की व्रत कथा को जानने के बाद, हमें इस व्रत और उसके उपवास की प्रक्रिया से जुड़ी रस्मों को जानना चाहिए।

अहोई अष्टमी व्रत प्रक्रिया

इस दिन माताएं अपने पुत्रों की कुशलता के लिए व्रत रखती हैं। सुबह से शाम तक माताएं उपवास रखती हैं और अहोई माता से प्रार्थना करती हैं। यह व्रत करवाचौथ व्रत के समान है।

शाम को तारे देखने तक माताएँ पूरे दिन कुछ भी खा या पी नहीं सकती। कुछ लोग चंद्र दर्शन के बाद अपना उपवास तोड़ते हैं। आम तौर पर इन दिनों चंद्रमा का दर्शन बहुत देर से होता है इसलिए तारों के दर्शन के साथ भी उपवास तोड़ सकते हैं।

यह भी देखेंः संतान प्राप्ति के लिए पूजा

अहोई अष्टमी का अनुष्ठान और पूजा विधान

अहोई अष्टमी के दिन, माताएं सूर्योदय से पहले उठती हैं। उन्हें शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए और मंदिर में पूजा करने के लिए जाना चाहिए। उन्हें अपने पुत्र के कल्याण के लिए संकल्प लेना चाहिए और पूरे दिन का उपवास करना चाहिए।

शाम को, सूर्यास्त से पहले, माताएँ पूजा की तैयारियाँ करती हैं। एक साफ दीवार पर, वे अहोई भगवती माता का एक चित्र बनाती हैं। महिलाएं अहोई माता की फोटो या मूर्ति का भी उपयोग कर सकती हैं। चित्र के पास पानी से भरा एक मिट्टी का बर्तन रखा जाता है।

इस बर्तन के चारों ओर एक लाल धागा बांधा जाता है, और उसके किनारे को हल्दी में डुबोया जाना चाहिए। देवी के पास प्रसाद और कुछ सिक्के रखे जाते हैं। इस थाली में पारंपरिक रूप से -हलवा, पूड़ी, ज्वार, चना आदि शामिल होते हैं।

कुछ परिवारों में, माताएँ चाँदी का सिक्का या सोने के सिक्के की माला बनाती हैं। जब भी उनके परिवार में एक नया सदस्य आता है, तो माताएँ उस माला में चाँदी या सोने का एक सिक्का जोड़ती है। और इस माला का उपयोग पीढ़ियों तक अहोई भगवती माता की पूजा करने के लिए किया जाता है।

क्या आपकी कुंडली में राज योग है?

परिवार की सभी महिलाएं पूजा में शामिल होती हैं। परिवार की एक बड़ी महिला व्रत कथा पढ़ती है। और फिर परिवार के सभी सदस्यों को प्रसाद वितरित किया जाता है।

माँ का प्यार अनमोल होता है। और अहोई अष्टमी के दिन जब वह व्रत करती है और अपने बेटे के लिए प्रार्थना करती है, तो अहोई भगवती वास्तव में उसके पुत्रों को सभी सांसारिक सुख और लंबे समय तक खुशहाल जीवन का आशीर्वाद देती है।

अहोई माता आपके पुत्र को कल्याण और समृद्धि का आशीर्वाद दें। यह अहोई अष्टमी व्रत उन सभी माताओं के लिए फलदायी हो, जो अपने पुत्र के लिए समर्पित रूप से उपवास कर रही हैं!


Leave a Comment

hindi
english