Rashifal Rashifal
Raj Yog Raj Yog
Yearly Horoscope 2020
Janam Kundali Kundali
Kundali Matching Matching
Tarot Reading Tarot
Personalized Predictions Predictions
Today Choghadiya Choghadiya
Anushthan Anushthan
Rahu Kaal Rahu Kaal

Foreign Education Astrology in Hindi

Foreign Education Astrology in Hindi

Updated Date : Friday, 24 Apr, 2020 07:17 AM

ज्योतिष द्वारा विदेश में शिक्षा के बारे में

हर मेधावी(योग्य) छात्र का विदेश में पढ़ाई करने का सपना होता है, लेकिन वे नहीं जानते कि यह सपना पूरा किया जा सकता है या नहीं? अभ्यर्थी के मन में कई तरह के सवाल उठते हैं जैसे मैं किस देश में पढ़ाई के लिए जाऊंगा या मुझे जाने का अवसर भी मिलेगा या नहीं? अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा की संभावनाओं का अनुमान संबंधित व्यक्ति की जन्म कुंडली के विस्तृत अध्ययन के माध्यम से लगाया जा सकता है। जन्म कुंडली में विभिन्न ज्योतिषीय संयोजन होते हैं जो इंगित करते हैं कि क्या ऐसे अध्ययन का संयोग है। यह 12वें या 5वें घर के भगवान की स्थिति से निर्धारित किया जा सकता है। अन्य भविष्यवाणियां जो अध्ययन के क्षेत्र में की जा सकती हैं, वह हैं: अनुसंधान, गैर तकनीकी या तकनीकी शिक्षा, आदि। एक अनुभवी ज्योतिषी आपकी जन्म कुंडली के अनुसार विस्तृत विश्लेषण की भविष्यवाणी करने में सक्षम होगा।

कुंडली कौन से  घर विदेशी शिक्षा से संबंधित है

जन्म कुंडली के कौनसे घर  कुंडली के 12 घरो में मौजूद ग्रहों से जाने ज्योतिष विज्ञान के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा के लिए 2, 4, 5 वें, 8 वें और 12 वें घरों के माध्यम से विभिन्न ग्रहों के संयोजन का विश्लेषण किया जाता है। विदेश में बसने या यात्रा करने के पहलुओं का अध्ययन कुंडली के तीसरे, चैथे, 7 वें, 9 वें या 12 वें घर से किया जाता है। हर घर एक अलग विषय को दर्शाता है जैसे कि चौथा घर माध्यमिक शिक्षा के लिए है, दूसरा घर प्राथमिक शिक्षा के लिए है, 9 वां घर उच्च शिक्षा के लिए है, 5 वां घर कॉलेज की शिक्षा के लिए है, 8 वां घर अनुसंधान के लिए है और 12 वां घर विदेशी भूमि पर आपके घर को दर्शाता है। यदि ये घर मेल खाते हैं तो व्यक्ति की इच्छाएँ पूरी हो सकती हैं।

अवश्य पढ़ें: शिक्षा में सफलता के उपाय

विदेश शिक्षा के विषय में कुंडली के घरों का महत्व

चौथे घर को शिक्षा का कारक माना जाता है, और 5 वां घर बुद्धि को दर्शाता है। दूसरे घर को वाणी का घर माना जाता है, और माना जाता है कि इस घर में देवी सरस्वती निवास करती हैं। महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल करने और उच्च शिक्षा में अच्छी ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए, 9 वें और 10 वें घर सर्वोपरि हैं। शिक्षा और बुद्धि एक साथ चलती है, और दोनों के बीच बहुत करीबी रिश्ता है। यदि महत्वपूर्ण घरों में 12 वें घर के भगवान (विदेश में घर), चौथे(सैकंडरी एजुकेशन एंड होम) और 5 वें घर का भगवान (शिक्षा) से संबंधित हैं तो इस बात की प्रबल संभावना है कि वह व्यक्ति शिक्षा के लिए विदेश की यात्रा करेंगे और वहां स्थायी रूप से बस जाएंगे। यदि 9 वें, 12 वें और 5 वें घर एक दूसरे के साथ जुड़े हुए हैं तो वह व्यक्ति विदेश जाएगा।

आज का राशिफल - देखे आज के दिन में क्या होने वाला है खास आप के लिए

अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा के लिए कुंडली में ग्रहों का महत्व

ग्रह भी शिक्षा के विभिन्न पहलुओं से जुड़े होते हैं। यदि किसी का बुध मजबूत है, तो यह चिकित्सा अध्ययन, वित्तीय प्रबंधन और गणित के लिए महत्वपूर्ण है। ग्रह मंगल एक व्यक्ति को अन्याय के खिलाफ खड़ा होने में सक्षम बनाता है और शुक्र को संगीत के लिए उत्कृष्ट माना जाता है और व्यक्ति को पर्याप्त रूप से व्याख्या करने का अधिकार देता है। बृहस्पति को दर्शनशास्त्र, वेद और ज्योतिष का प्रमुख कारका माना जाता है। राहु और शनि विदेशी शिक्षा के दो मुख्य कारक हैं।

विदेशी अध्ययन के लिए महत्वपूर्ण पहलू

कई महत्वपूर्ण मापदंडों और कई घरों के बीच संबंध हैं जो विदेशी में अध्ययन को इंगित करते हैं-

  1. यदि दूसरे घर व विदेश में बसने वाले ग्रह के बीच संबंध है, तो एक मौका है कि व्यक्ति अध्ययन करने के लिए एक विदेशी देश में जा सकता है। इसी तरह, 5 वें घर के साथ 12 वें घर के भगवान के बीच संबंध व्यक्ति को पढ़ाई के उद्देश्य से विदेश यात्रा करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इसी तरह, यदि व्यक्ति 10 वें घर के भगवान के साथ जुड़ा हुआ है, तो विदेश में अध्ययन और काम करने का मौका है।
  2. यदि 9 वें घर के भगवान की नियुक्ति 12 वें घर में है, तब भी व्यक्ति अध्ययन के लिए अन्य देश जाता है।
  3. राहु और केतु, दोनों चौथे घर के भगवान और चौथे घर से जुड़े हैं।
  4. राहु और केतु की धुरी, दोनों राशियों से 12 वें घर में है।
  5. उत्कृष्ट ज्योतिषीय सिद्धांत के अनुसार, भाव भावम के नियम के अनुसार 7 वां घर विदेशी शिक्षा में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह लग्न/पूर्व के विपरीत घर और पश्चिम का प्रतिनिधि है।
  6. प्रश्न कुंडली के अनुसार, 9 वें और चौथे पुच्छल उपस्वामी विदेशी शिक्षा की ओर संकेत करते है। क्या किसी व्यक्ति को किसी विशेष विश्वविद्यालय में प्रवेश मिलेगा? क्या शिक्षा के लिए वीजा मंजूर होगा? व्यक्ति को विदेशी शिक्षा के लिए आवेदन करना चाहिए या नहीं? इन सभी सवालों का जवाब प्रश्न कुंडली की मदद से दिया जा सकता है।
  7. जब घरों में उपअवधि या ग्रहों की मुख्य अवधि व्याप्त होती है या दशा स्वामी इन घरों से जुड़े होते हैं तो जातक शिक्षा के लिए विदेश यात्रा कर सकता है। साथ ही, इन घरों से बृहस्पति, शनि और राहु ग्रहों के पारगमन से विदेशी दौरे की संभावना बढ़ जाती है। विदेश घरों में बृहस्पति और शनि का गोचर बहुत ही शुभ माना जाता है।

आप का नक्षत्र कौनसा है? नक्षत्र से आप अपने रहस्यों को जान सकते है।


Leave a Comment

hindi
english