Rashifal Rashifal
Raj Yog Raj Yog
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali Kundali
Kundali Matching Matching
Tarot Reading Tarot
Personalized Predictions Predictions
Today Choghadiya Choghadiya
Anushthan Anushthan
Rahu Kaal Rahu Kaal

कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष

Difference Between Shukla Paksha and Krishna Paksha

Updated Date : Wednesday, 09 Sep, 2020 06:56 AM

क्या आपको शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष  में उलझन है? इन दोनों के बीच का अंतर धार्मिक और ज्योतिषीय दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा, हमारी हिंदू परंपराओं के अनुसार, हम कुछ विशिष्ट तिथियों को निर्धारित करते हैं, जो विभिन्न धार्मिक कार्यों को करने का शुभ समय है। शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष की तिथियों का अर्थ, शुभ मुहूर्त के संदर्भ में बहुत ज्यादा है।

इन दो भ्रामक खगोलिय घटनाओं के बीच के अंतर को समझने से आकाशीय कैलेंडर के विभिन्न पहलुओं और हमारे जीवन पर इसके प्रभाव को जानने में मदद मिलती है ।

क्या है पक्ष का मतलब? - (Meaning Of Paksha)

हमारे ज्योतिषीय कैलेंडर के अनुसार, हर चंद्र महीने को दो पक्षों में बाँटा गया है। पक्ष एक चंद्र पखवाड़ा है। यह लगभग 14 दिनों की अवधि होती है। हिंदी भाषा में पक्ष शब्द का शाब्दिक अर्थ पक्ष या पहलू होता है।

इसके अलावा, ज्योतिषीय घटनाओं के संदर्भ में, पक्ष का अर्थ है एक महीने का एक पक्ष। यह शुक्ल पक्ष या कृष्ण पक्ष होता है। यह चंद्रमा का चरण है। प्रत्येक चंद्रमा का चरण 15 दिनों तक रहता है। इसलिए आम तौर पर, हर महीने दो चंद्रमा चरण होते हैं!

गणना के अनुसार, चंद्रमा एक दिन में 12 डिग्री की परिक्रमा पूरी करता है। तीस दिनों में, चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर अपनी एक परिक्रमा पूरी करता है। यह चन्द्रमा हर दो सप्ताह में एक चरण पूरा करता है जो विभिन्न धार्मिक कार्यों में बहुत मदद करता है।

कृष्ण पक्ष क्या है ? - (Krishna Paksha Tithi)

कृष्ण पक्ष पूर्णिमा (पूनम) से शुरू होता है और अमावस्या तक रहता है। यह एक ऐसा समय है, जिसमें चंद्रमा अपना रूप बदलना शुरू कर देता है।

इसके अलावा, यह भगवान कृष्ण के कारण कृष्ण पक्ष के रूप में जाना जाता है। कृष्ण की त्वचा का रंग श्याम (धुंधला और फीका) था, इसलिए चंद्रमा के फीके रूप को कृष्ण पक्ष कहा जाता है।

तिथियां और समय जो इस चंद्र समय के दौरान आती हैं, उन्हें कृष्ण पक्ष तीथि के रूप में जाना जाता है। ज्योतिषी हिंदू पंचांग से विभिन्न धार्मिक कार्यों के लिए ऐसी तीथियों को चिह्नित करते हैं।

शुक्ल पक्ष क्या है ? - (Shukla Paksha Tithi)

शुक्ल पक्ष अमावस्या (अमावस्या) से पूर्ण चंद्र दिवस (पूर्णिमा) के बीच की अवधि होती है। संक्षेप में, शुक्ल पक्ष उज्ज्वल या चमकदार चंद्रमा का समय है।

जैसे ही शुक्ल पक्ष पूर्णिमा के दिन समाप्त होता है, हम आकाश में एक चमकदार पूर्ण प्रकाशमय चंद्रमा देखते हैं! शुक्ल का अर्थ है संस्कृत भाषा के अनुसार उज्ज्वल, और ये दिन चमकदार चंद्रमा के दिन होते हैं।

इस चंद्र चरण के दौरान आने वाली तिथियां और समय शुक्ल पक्ष के रूप में जाने जाते हैं। ज्योतिषी विभिन्न धार्मिक कार्यो के लिए हिंदू पंचांग से ऐसी तिथियां लिखते हैं। आम तौर पर, ये दिन ज्योतिषीय रूप से आशाजनक होते हैं!

अतः, सामान्य रूप से, इसे आसानी से समझने के लिए, पूर्णिमा से अमावस्या के पहले पखवाड़े को शुक्ल पक्ष (वैक्सिंग मून), और पूर्णिमा से अमावस्या के दौरान दूसरे पखवाड़े को कृष्ण पक्ष के नाम से जाना जाता है।

कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष के बीच का अंतर

जब हम संस्कृत शब्द शुक्ल और कृष्ण का अर्थ समझते हैं, तो हम स्पष्ट रूप से दो पक्षों के बीच अंतर कर सकते हैं। शुक्ल उज्ज्वल व्यक्त करता है, जबकि कृष्ण का अर्थ है अंधेरा।

जैसे कि हमने पहले ही जाना, शुक्ल पक्ष अमावस्या से पूर्णिमा तक होता है, और कृष्ण पक्ष, शुक्ल पक्ष के विपरीत, पूर्णिमा से शुरू होकर अमावस्या तक होता है।

देखें: एकादशी तिथि 2020 कैलेंडर

कौन सा पक्ष शुभ है? - (Which Paksha Is Auspicious)

धार्मिक मान्यता के अनुसार, लोग शुक्ल पक्ष को शुभ मानते हैं, और कृष्ण पक्ष को इसके प्रतिकूल। यह विचार चंद्रमा की जीवन शक्ति और रोशनी के संबंध में है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शुक्ल पक्ष के दसवें दिन से लेकर कृष्ण पक्ष के पांचवें दिन तक की अवधि को ज्योतिषीय रूप से शुभ माना जाता है। इस समय के दौरान, चंद्रमा की ऊर्जा अधिक या लगभग अधिकतम होती है - जिसे शुभ और अशुभ समय तय करने के लिए ज्योतिष में महत्वपूर्ण माना जाता है।

यह भी देखे: शादी मुहूर्त 2020

शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष के लिए वर्ष 2020 का कैलेंडर 

महीने के शुभ और अशुभ दिनों को जानने के लिए वर्ष 2020 के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की तिथियों को जानना लाभदायक हो सकता है।

वर्ष 2020 के लिए ज्योतिषीय कैलेंडर की निम्न तिथियों को जानें।

महीना वर्ष 2020 के लिए शुक्ल पक्ष की तिथियाँ वर्ष 2020 के लिए कृष्ण पक्ष की तिथियाँ
जनवरी

1-9/10-पूर्णिमा

25- 31शुक्ल पक्ष

11-23/24-अमावस्या
फरवरी

1-8/9-पूर्णिमा

24-29 शुक्ल पक्ष

10-22/23-अमावस्या
मार्च

1-8/9-पूर्णिमा

25-31 शुक्ल पक्ष

10-23/24-अमावस्या
अप्रैल

1-7/8-पूर्णिमा

24-31-शुक्ल पक्ष

9-22/23-अमावस्या
मई

1-6/7-पूर्णिमा

23-30-शुक्ल पक्ष

8-21/22-अमावस्या
जून

1-4/5-पूर्णिमा

22-30-शुक्ल पक्ष

6-20/21-अमावस्या
जुलाई

1-4/5-पूर्णिमा

21-31-शुक्ल पक्ष

6-19/20-अमावस्या
अगस्त

1-2/3-पूर्णिमा

20-29 शुक्ल पक्ष

4-18/19-अमावस्या
सितंबर

1-2-पूर्णिमा

18-30-शुक्ल पक्ष

3-16/17-अमावस्या
अक्टूबर

1-पूर्णिमा

17-30/31-पूर्णिमा

2-15/16-अमावस्या
नवंबर

16-29/30 पूर्णिमा

1-14/15-अमावस्या
दिसंबर

15-29/30 पूर्णिमा

31-कृष्ण प्रतिपदा

1-13/14-अमावस्या

सारांश 

हमारा हिंदू पंचांग विभिन्न खगोलीय घटनाओं में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए एक दर्पण की तरह है। इन दिशानिर्देशों के आधार पर, हम आशाजनक परिणाम प्राप्त करने के लिए अपने जीवन के बारे में योजना बना सकते हैं।

अब आप जानते हैं, शुक्ल पक्ष ज्योतिषीय फलदायी अवधि है। अतः अगली बार, जब आप एक नई परियोजना शुरू करें या गृह प्रवेश की योजना बनाएं, तो सटीक पंचांग देखकर, अपने आप ही शुभ समय जान सकते हैं!


Leave a Comment

hindi
english