Rashifal Rashifal
Raj Yog Raj Yog
Yearly Horoscope 2021
Janam Kundali Kundali
Kundali Matching Matching
Tarot Reading Tarot
Personalized Predictions Predictions
Today Choghadiya Choghadiya
Anushthan Anushthan
Rahu Kaal Rahu Kaal

कालसर्प दोष निवारण के उपाय

Kaal Sarp Dosha Remedies in Hindi

Updated Date : Wednesday, 04 Dec, 2019 09:10 AM

Kaal Sarp Dosh Remedies In Hindi

काल सर्प योग, जिसे काल सर्प दोष के रूप में भी जाना जाता है, सबसे अधिक डरावने ज्योतिषीय संयोजनों में से एक है जो किसी के जीवन में अत्यंत दुख और दुर्भाग्य ला सकता है। काल सर्प योग कुंडली में तब बनता है जब शनि, बृहस्पति, सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध और शुक्र सहित सभी सात प्रमुख ग्रह दो छाया ग्रहों राहु और केतु के बीच आते हैं। वैदिक ज्योतिष में, राहु सर्प के सिर का प्रतिनिधित्व करता है और केतु सर्प की पूंछ को दर्शाता है। कुंडली में इस योग के होने से किसी व्यक्ति पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है।

क्या आपकी कुंडली में काल सर्प दोष है? काल सर्प दोष कैलकुलेटर के साथ इसे जानें।

एक जन्म कुंडली में राहु और केतु की स्थिति के आधार पर 12 प्रकार के काल सर्प योग होते हैं। ये निम्नलिखित हैंः

  1. अनंत काल सर्प दोष

  2. कुलिक काल सर्प दोष

  3. वासुकि काल सर्प दोष

  4. शंखपाल काल सर्प दोष

  5. पदम काल सर्प दोष

  6. महापदम काल सर्प दोष

  7. तक्षक काल सर्प दोष

  8. कर्कोटक काल सर्प दोष

  9. शंखनाद काल सर्प दोष

  10. घटक काल सर्प दोष

  11. विशद काल सर्प दोष

  12. शेषनाग काल सर्प दोष

काल सर्प दोष के उपाय

काल सर्प दोष का प्रभाव बेहद खतरनाक है और इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। यह दोष मूल रूप से किसी व्यक्ति को पेशेवर, व्यक्तिगत, मानसिक और भावनात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। इससे भी बुरी बात यह है कि यह दोष उन ग्रहों के सकारात्मक प्रभाव को कम कर सकता है जो किसी की कुंडली में अनुकूल प्रभाव देने वाले होते हैं। लेकिन प्रभावी उपाय हैं, यदि पूर्ण भाव के साथ किए जाते हैं, तो काल सर्प दोष के नकारात्मक प्रभाव को कम कर सकते हैं।

Also See: Best Days For Kaal Sarp Dosh Nivaran Puja

  • नाग देवता से प्रार्थना करें

प्रभावी व्यक्ति को हर रविवार को विशेष रूप से पंचमी तीथि पर नागराज और अन्य नाग देवताओं की पूजा करनी चाहिए।

‘ओम नमः शिवाय’ का जाप करें

काल सर्प दोष के लिए सबसे सरल और प्रभावी उपायों में से एक है, पंचाक्षर मंत्र या “ओम नमः शिवाय”, इनका दिन में कम से कम 108 बार जप करना चाहिए। भगवान शिव के आशीर्वाद से आपको काल सर्प योग के कारण जीवन में आने वाली कठिनाइयों को दूर करने की सहायता मिलेगी।

  • एक पवित्र स्थान पर जाएँ

लोगों को तीर्थयात्राओं पर जाना चाहिए, जिसे काल सर्प दोष से पीड़ित लोगों के लिए अच्छा माना जाता है। उदाहरण के लिए, तमिलनाडु के रामेश्वरम मंदिर में एक पवित्र स्नान करने और पूर्वजों को पूजा अर्पित करने से पितृ श्राप समाप्त हो सकता है, यदि यह किसी की कुंडली में काल सर्प दोष के कारण हो। उज्जैन में महाकालेश्वर के दर्शन करना, आंध्र प्रदेश में कालाहस्ती, नासिक (महाराष्ट्र) में त्रयंबकेश्वर और भगवान शिव की पूजा करने से इस दोष के नकारात्मक प्रभावों को काफी हद तक दूर किया जा सकता है।

  • महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करें

दिन में कम से कम 108 बार महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करने से इस दोष के प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सकता है।

  • भगवान शिव की पूजा करें

दूध और अभिषेक के साथ भगवान शिव की पूजा-प्रार्थना करने से काल सर्प दोष से पीड़ित व्यक्ति को अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। प्रत्येक सोमवार को दूध, फूल, बिल्व पत्र, फल और बेर चढ़ाकर मंदिर में शिव पूजा करनी चाहिए। तत्पश्चात किसी गरीब को भोजन और वस्त्र दान करना चाहिए। महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा करने से इस दोष से पीड़ित व्यक्ति को अधिक अच्छे परिणाम मिल सकते हैं।

  • गायत्री मंत्र का जाप करें

गायत्री मंत्र का जाप एक दिन में 21 बार या 108 बार करना चाहिए। आपको जल्दी उठना चाहिए, स्नान करना चाहिए और फिर सूर्य के सामने इस मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो लोग धार्मिक रूप से गायत्री मंत्र का जप करते हैं, वे जीवन में सभी विपत्तियों से बचे रहेंगे।

  • नटराज की पूजा करें

भगवान नटराज की पूजा करें, जो भगवान शिव के नृत्य अवतार हैं और षष्टी तिथि के दिन शांति पूजा करें।

  • नाग पंचमी पर उपवास करें

नाग पंचमी व्रत का पालन दृढ़ता से करें।

  • राहु के लिए बीज मंत्र

हाथ में एक अगेट (रत्न) लेकर एक दिन में 108 बार हानिकारक ग्रह राहु के बीज मंत्र का पाठ करें। यह राहु के नकारात्मक प्रभावों को भी कम करेगा।

  • सांपों को परेशान न करें

सुनिश्चित करें कि आप सांप या किसी अन्य सरीसृप को चोट नहीं पहुंचाऐं। हर षष्ठी तिथि को कम से कम 21 बार नौ सर्पों के नामों का जाप करें।

  • काल सर्प दोष निवारण पूजा

काल सर्प दोष पूजा इस दोष के प्रभाव को कम करने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। यह पूजा पुजारियों द्वारा भगवान शिव को समर्पित मंदिरों विशेषकर कालाहस्ती और त्रयंबकेश्वर मंदिर में की जाती है। इस पूजा के संपन्न होने के बाद आपको अधिक प्रबल राहत मिलेगी।

काल सर्प दोष के बारे में यहाँ और जानेंः

अन्य उपाय

इन उपायों के अलावा, जिन लोगों के जन्म चार्ट में काल सर्प योग है, वे भी यदि संभव हो तो इन उपचारात्मक उपायों को कर सकते हैं।

  • शनिवार या पंचमी तिथि को 11 नारियल बहते जल या किसी नदी में अर्पित करें।

  • अधिमानतः एक नदी में धातु से बने नाग और नागिन के 108 जोड़े बहते जल में चढ़ायें।

  • घर में पालतू कुत्ता रखें। यह भगवान बटुक भैरव को प्रसन्न करेगा जिनके आशीर्वाद से काल सर्प दोष का एक प्रभावी इलाज हो सकता है।

  • विष्णु सहस्रनाम का जाप करें

  • मनसा देवी की पूजा करें

  • नागराज की पांच-सिर वाली मूर्ति लाएं, चांदी में सर्वश्रेष्ठ होगी। इसे भगवान सुब्रमण्य स्वामी मंदिर में रखें और प्रतिदिन चावल को हल्दी के साथ मिलाकर पूजा करें।

Leave a Comment

hindi
english